Blood Group कितने प्रकार के होते है?

Blood के कितने प्रकार है?

Blood Group के बारे में जानने से पहले थोड़ा blood के बारे में जान ले। रक्त को कृत्रिम रूप से नहीं बनाया जा सकता है, इसलिए जब रक्त की आवश्यकता होती है तो या तो ब्लड बैंक से इस्तेमाल किया जाता है जहां पर पहले रक्तदान शिविर से इकट्ठा किया वह ब्लड जमा होता है या तुरंत किसी व्यक्ति से डायरेक्ट ब्लड दिया जाता है और उसको मैं जरूरतमंद को स्थानांतरण किया जाता है ।

Blood के क्या-क्या component है?

  • लाल रक्त कोशिकाएं [Red blood cell ]
  • सफेद रक्त कोशिकाएं [ White blood cell ]
  • प्लेटलेट्स [ Platelets ]
  • प्लाज्मा [ Plasma ]

Blood Group कितने प्रकार के होते है?

रक्त को मुख्य तौर पर दो बड़े समूह में बांटा गया है इनको अलग करने का आधार है कोशिकाओं की सतह पर पाए जाने वाले एंटीजन { यह एंटीजन प्रोटीन और शर्करा मिलकर बने होते हैं} इन एंटीजन का इस्तेमाल हमारे शरीर में रक्त कोशिकाओं की पहचान करने के लिए किया जाता है।

मुख्य रूप से दो रक्त समूह है ABO और Rh है।

ABO रक्त प्रणाली के 4 मुख्य प्रकार हैं:-

SN.Type of blood
group
Antigen Present
on RBCs surface
Antibody Present
in Plasma
1Type AAb
2Type BBa
3Type ABA,B_
4Type Oa,b

Type A:- इसमें लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर एंटीजन A पाया जाता है और प्लाज्मा में एंटीबॉडी b पाई जाती है।

Type B:- इसमें लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर एंटीजन B पाया जाता है और प्लाज्मा में एंटीबॉडी a पाई जाती है।

Type AB :- इसमें लाल रक्त कोशिकाओं के सतह पर एंटीजन A,B दोनों पाए जाते हैं लेकिन प्लाज्मा में कोई एंटीबॉडी नहीं पाई जाती है।

Type O:- इसमें लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर कोई भी एंटीजन नहीं पाया जाता है लेकिन प्लाज्मा में एंटीबॉडी a,b दोनों पाई जाती है।

रक्त समूह को आगे “Rh factor ” के आधार पर आगे वर्गीकृत किया जाता है जिसके आधार पर रक्त समूह को Rh+ve  और Rh-ve में बाटा गया है:-

Rh व ABO दोनों को मिलाने पर 8 संभावित Blood group हैं:

SNType of
Blood group
Antigen Present
on RBCs surface
Antibody Present
in plasma
‘Rh’ Antigen
on RBCs Surface
1A+AbPresent
2A-AbAbsent
3B+BaPresent
4B-BaAbsent
5AB+A,B_Present
6AB-A,B_Absent
7O+_a,bPresent
8O-_a,bAbsent

Blood group महत्वपूर्ण क्यों हैं?

प्रतिरक्षा प्रणाली हमारे शरीर को नुकसान पहुँचाने वाले आक्रमणकारियों के खिलाफ शरीर को सुरक्षा प्रदान करती है। यह एंटीजन को स्वयं या invader के रूप में पहचान सकती है। जब रक्त को transfuse किया जाते है तब blood group को मिलान किया जाता है जिसके कारण किसी भी प्रकार  की Blood related transfusion reaction  से बचा जा सकता है

हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली प्रोटीन नामक Antibody  बनाती है जो संरक्षक के रूप में कार्य करती है यदि foreign cells शरीर में प्रवेश करती हैं। किसी व्यक्ति के पास किस प्रकार का रक्त है, इसके आधार पर, प्रतिरक्षा प्रणाली अन्य रक्त प्रकारों के खिलाफ प्रतिक्रिया करने के लिए Antibody बनाएगी।

यदि किसी मरीज को गलत रक्त प्रकार मिलता है, तो Antibody तुरंत foreign cells को नष्ट करने के लिए निकल जाती हैं। यह प्रकिर्या  पूरे शरीर की प्रतिक्रिया Blood related transfusion reaction जैसे  बुखार, ठंड लगना और Low BP की समस्या कर सकती है। यह शरीर की महत्वपूर्ण प्रणालियों को भी प्रभावित कर सकता है – जैसे सांस लेना या किडनी – फेल होना।

Blood transfusions सबसे अधिक जीवन भर की प्रक्रियाओं में से एक है जो अस्पताल करते हैं। प्रत्येक 2 सेकंड में किसी को Blood transfusions की आवश्यकता होती है। इसलिए हमेशा रक्तदाताओं की जरूरत है। एक रक्तदान से तीन लोगों की जान बचाई जा सकती है।

यहाँ एक उदाहरण है कि Blood group-Antibody प्रक्रिया कैसे काम करती है:

  • मान लें कि आपके पास A Blood group है। क्योंकि आपके रक्त में A antibody है जो B antibody बनाता है।
  • यदि B antigen (Type B या Type AB ब्लड में पाया जाता है) आपके शरीर में प्रवेश करता है, तो आपका Type A इम्यून सिस्टम उनके खिलाफ फेल हो जाता है।
  • इसका मतलब है कि आप केवल A या O Blood वाले किसी व्यक्ति से Blood प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन  B या AB रक्त वाले किसी व्यक्ति से नहीं।

उसी तरह, यदि आपके पास ‘B’ antigen है, तो आपका शरीर ‘a’ antibody बनाता है। तो Type B blood वाले व्यक्ति के रूप में, इसका मतलब है कि आप केवल B या O Blood वाले किसी व्यक्ति से Blood प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन A या AB रक्त वाले किसी व्यक्ति से नहीं।

AB या O Type रक्त वाले लोगों के लिए चीजें थोड़ी अलग हैं:

  • यदि आपके पास आपकी कोशिकाओं की सतह (AB blood group) पर Aऔर B दोनों antigen हैं, तो आपके शरीर को किसी भी उपस्थिति से लड़ने की आवश्यकता नहीं है।
  • इसका अर्थ है कि AB रक्त वाले व्यक्ति को A, B, AB, या O रक्त वाले किसी व्यक्ति से blood ले सकता है।

लेकिन अगर आपके पास ‘o’ blood है, तो आपकी लाल रक्त कोशिकाओं में A या B antigen नहीं हैं। इसलिए:

  • आपके शरीर में A और B दोनों Antibody होंगे और इसलिए A,B और AB रक्त के खिलाफ खुद की रक्षा करने की आवश्यकता महसूस होगी।
  • O Blood वाले व्यक्ति को केवल O Blood वाले व्यक्ति से blood लिया जा सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!